Tuesday, May 19, 2009

हामारे दिल में बसते गये लोग..और हम बसाते गये..
एक एक करके दिल तोड़ते गये..और हम बीना कुछ कहे टूटते गये..

नीता कोटेचा..