Tuesday, May 19, 2009

खुली किताब हो जिन्दगी की दोस्तों के सामने तो अच्छी लगती है..
नहीं तो अँधेरे में ही दोस्त भटकते रहेते है...

नीताकोटेचा