Thursday, May 21, 2009

तेरी याद आज आसु बनके आखों से गिरी...

तब पता चला की,

तुम दिल में हों

आखों में हों

मन में हो

और

रोम रोम में हो ..


नीता कोटेचा