Thursday, May 21, 2009

रास्ते वो है..अहेसास वो है..याद वो है आज भी ताजा..
बस तू नहीं कही...और अब तो हमें तुम्हारी तलाश भी नहीं ...
बस तुम्हारी यादे ही काफी है ...हमें जीवन बिताने के लिए..

नीता कोटेचा..