Tuesday, May 19, 2009

चंचल बच्ची थी कभी मै...
और आज वो बचपन खो गया है
लोगो को अपना बनाने में मैंने
खुद को ही खो दिया है..
ना खुदा के करीब हो सकी ना खुद के करीब..
यु ही मुजमे मैंने खुद को खो दिया है...
और फिर भी अपना ना बना कोई...

नीता कोटेचा..