Monday, February 16, 2009

खुदा, तेरी महेफिल में हम ये फरियाद करते है..
उन सब को खुश रखना जो तुम्हें याद करते है..

तेरी महेफिल में सर जुकाया हमने इसलिए
क्योकि तेरे बनाए हुवे जहा को तेरे ही लोग रोंद रहे है..

हमने कहा वो सबको खुश रखना जो तुम्हें याद करते है..
तो खुदा मुझे इतना बता दे की जो तुम्हें याद करते है
वो
ऐसे कैसे होते है...
की लोगो का खून भी बहेता है तो उनको कोई फरक नहीं पड़ता.

अब क्या कहू खुदा ऐसे लोगो के लिए..
पर हम तो तेरे सच्चे बन्दे है...
तो ये ही दुआ करते है
की
कैसा भी हो वो..
पर
उन सब को खुश रखना जो तुम्हें याद करते है..

नीता कोटेचा..

5 comments:

रश्मि प्रभा said...

खुदा तुम्हारी दुआ कबूल करें.......

નીલા કડકીઆ said...

ખુદા તો એને યાદ કરે કે ન કરે બધાને યાદ રાખે જ છે. બસ આપણે કેટલું એમને યાદ કરીયે છીએ તેના પર નિર્ભર ચે. અને એના દરવાજેથી તો કોઈ ખાલી હાથે ફરતું જ નથી.

નીલા કડકીઆ said...

ખુદા તો એને યાદ કરે કે ન કરે બધાને યાદ રાખે જ છે. બસ આપણે કેટલું એમને યાદ કરીયે છીએ તેના પર નિર્ભર છે. અને એના દરવાજેથી તો કોઈ ખાલી હાથે ફરતું જ નથી.

shilpa prajapati said...

ए खुदा, तेरी महेफिल में हम ये फरियाद करते है..
उन सब को खुश रखना जो तुम्हें याद करते है..

sachi vat che..

Jibon Das said...



Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां