Sunday, October 7, 2007

दिल ही दिया नही
........................

दिल से महोब्बत कि थी तुमसे,

तुमने साथ दिया नही।

दिन दिन भर याद किया था तुम्हें,

तुमने याद किया नही।

आंसू बहाए हमने बहोत तुम्हारी याद पे ,

तुमने मुस्कराना भुलाया नही

तुमसे ही दिल क्यों लगा बैठे हम,

तुम्हें तो खुदा ने दिल ही दिया नही।

नीता कोटेचा