Monday, March 28, 2011

हम तो उनके करीब रह कर भी उन्हें छु ना सके,
पता ही ना था की वो मेरे है या नहीं..

4 comments:

Unknown said...

कुछ तो है कहानी पडने वालो को कमल गोस्वामी का नमस्कार
कुछ तो है कहानी का खास मतलब है की भुला दिया हमने आपको मगर तुम फिर भी हमे तुम याद आते हो इसका मतलब कुछ तो है जो मै भुल कर भी भुला नही पा रहा हूँ की कही तो प्यार छुपा है मेरे इस दिल मे जो चाहके भी भुलाया नही जाता और शायद हमे छुपाना ही नही आता कुछ तो है आजकल याद ज्यादा किया करता हूँ आपको कुछ तो किया है तुमने जाते-जाते इस दिल मे जो शायद ही कभी भुला पाउ मै लेकिन कुछ तो से एक बात का पता चलता है शायद दिल आपको भुलाना ही नही चाहता या फिर अकेले मे याद करते रहता है आपकी यादो से दिल मे चिराग जलते है हम नही घरवाले कहते है हम तो निद मे भी चलते है शायद वो कदम हम आपकी ओर बडाते हो चाहत का दूसरा नाम दिया है तुमने की कुछ तो है की कभी ना चाके भी नम्बर आपका ही लग जाता है कुछ तो है पर बहूत कुछ कह गई खामोशी मगर जुबा खुली भी ना थी और कुछ तो है मै बात हो गई प्यार कुछ भी मगर सच्चा प्यार कुछ तो है मे ही है क्योकी कई लोग छुपाते है तो कई बया कर देते है इस कुछ तो है को पडके आपके दिल मे भी कुछ तो है जो सब कुछ खामोशी से पड गये

Anonymous said...

तुम कोण हो भाई?

subhash chandra yadav said...

मेरा भी यही हालत हैं ।

Jibon Das said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां