Monday, March 28, 2011

दिवाली क्या है


दिवाली क्या है ये उनसे क्यों पूछते हों जिनके घर भरे है..
उनसे पूछो जो मुश्किल से ये दिन ख़तम करते है..
उनसे पूछो जिनके घर नए कपड़ो की बौछारे नहीं होती ,
जिनके घर फटाके नहीं आते..
जिनके घरो में घी के दिए नहीं जलते..
क्योकि खाने को ही घी नहीं होता..
जिनके पापा घर पर देरी से आते है..
की बच्चो का सामना ना करना पड़े..
और बच्चे जल्दी सो जाते है जूठमुठ का ..
की मम्मी पापा को बुरा ना लगे..
जिनके घर में मिठाई नहीं आती..
जिनके घर पे ५० रुपिया का तोरण नहीं बंधता.
जिनके घर कोई आता भी नहीं ..
पर फिर भी सब एक दुसरे के साथ मुस्कराते है जैसे कुछ हुवा ही ना हों..
नीता कोटेचा

4 comments:

प्रवीणा said...

नीता जी ,दिलवालो की दिवाली ऐसे ही मनाई जाती होगी

Nikhil Mishra said...

hello mam,I m Nikhil Mishra from pilibhit u.p.
Apki creation dekh kar mujhe bahut achchha laga.Bahut kam log hote hain, Jo duniya me kisi ke liye ek pal bhi sochte hain..mam mai apse baat karna karna chahta hu,mujhe bhi ish line me apna future banana hai.. plz,I hope ke aapka feedback aayega.. nikhilmishra2791@gmail.com & cell no. is 09045188566

Jibon Das said...


Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां

PARMOD KUMAR said...

Nice