Tuesday, December 25, 2007

दिल से खेलनेवाले ऐसे दोस्त और भी मिल गये

कि और एक बार अफ़सोस हो गया कि क्यों जीते है हम.