Tuesday, March 10, 2009

मेरी माँ

मैंने एक बार माँ से कहा :माँ मुझे अपनी गोद में सुला लो..
मै थक गई यहाँ की मतलबी दुनिया से और मतलबी लोगो से.."
तो माँ ने कहा"बेटा, ये तो वो लोग है जो जिन्दगी जीना सिखाते है..
मै कैसे तुम्हें उनसे दूर रखु..तुम फिर कभी लड़ ना पोगी.."
तो मैंने कहा "माँ मुझे नहीं लड़ना इन लोगो से जो मेरे नहीं है पर मेरे होने का अहेसास जताते है.."
तो माँ ने कहा" ये अहेसास ही काफी है, यहाँ तो लोगो को मतलबी लोग भी नहीं मीलते..
तुम जियो इन्ही के बिचमे..
तब ही तुम सिख पोगी दुनिया में जीना.."
मै नाराज़ हो के चल रही थी तब माँ ने कहा..
"जाओ मत दो पल सो जाओ मेरी गोद में..इससे तुमसे ज्यादा मुझे सुकून मिलेगा..मै मतलबी नहीं ..मै तो एक ऐसी इन्सान हु तुम्हारी जिन्दगी की जो हर बार मुश्किलों में सर पे हाथ रखकर मुश्किलों से लड़ना सिखायेगी.."

और माँ देखो ,आज मुझे सब मतलबी ओ के बिचमे भी अपनापन ढूंढना आ गया..

नीता कोटेचा.