Friday, March 14, 2008

वापस एक बार जुदा हो गये...
.............................................
यू ही जा रहे थे रस्ते पे हम बेफिक्र हो के
और अचानक नज़र तुम पर पड़ी
ऐ दोस्त क्या कहे क्या हुवा हमारे साथ बाद मे
बस वो वो पल याद आ गये॥
और यू लगा जैसे की जान हलक मे आ गई
और यू हुवा जैसे की आ के तुमसे लिपट जाए और कहे
जो हुवा उसे भूल जाओ ॥
चलो फ़िर से दोस्ती करेएक बार फ़िर...
पर हुवा नही वो भी हमसे
और हम वापस एक बार जुदा हो गये...

नीता कोटेचा

4 comments:

Anonymous said...

firr milte kya sirf bichadane ke liye hian neeta ji...aisa kyonn

Dieta said...

Hello. This post is likeable, and your blog is very interesting, congratulations :-). I will add in my blogroll =). If possible gives a last there on my blog, it is about the Dieta, I hope you enjoy. The address is http://dieta-brasil.blogspot.com. A hug.

Anonymous said...

Have faith. Everything will be all right. Believe in yor self rather than depending on 'Dost'.
visit www.pravinash.wordpress.com

Jibon Das said...



Hindi sexy Kahaniya - हिन्दी सेक्सी कहानीयां

Chudai Kahaniya - चुदाई कहानियां

Hindi hot kahaniya - हिन्दी गरम कहानियां

Mast Kahaniya - मस्त कहानियाँ

Hindi Sex story - हिन्दी सेक्स कहानीयां