Thursday, September 27, 2007

रिश्ते

रिश्ते
..................
रिश्ते बनते है मुश्किल से ,
रिश्ते जुड़ते है और भी मुश्किल से ।
या बनाओ मत
या तोड़ो मत ,
क्योकि रिश्ते मिलते है मुश्किल से

नीता कोटेचा