Saturday, August 25, 2012

दोस्त एक बार तो मुड़ के देख,
आज भी बह रही है आख़े तेरी  याद में..
नीता कोटेचा

No comments: